pre sub archive-13

 

Average: 6.2 (36 votes)

Orange!

 

जवान थे

तो मिजाज़ थे सख्त

और रंग पुख्ता

 

पर वक़्त की धूप पड़ती रही

और ज़िन्दगी की आइसक्रीम

आहिस्ता आहिस्ता पिघलती रही

 

कुछ कतरों का जायका मिला

जो टपक गए

उनका रहा गिला

 

पर उम्र की सींक पर

ये जो बची खुची ज़िन्दगी है

उसका रंग अब भी ऑरेंज है|

 

jawaan the

to mijaaz the sakht

aur rang pukhta

 

par waqt ki dhoop padti rahi

aur zindagi ki ice cream

aahista aahista pighalti rahi

 

kuchh katron ka zayka mila

jo tapak gaye

unka raha gila

 

par umr ki seenk par

ye jo bachi khuchi zindagi hai

uska rang ab bhi orange hai.

मिज़ाज: nature, स्वभाव  |  सख्त: stern  |  पुख्ता: firm, पक्का  |  कतरा: drop, बूँद  |  ज़ायका: taste  |  गिला: complaint, शिकायत

n

Comments

jyotsna's picture
enjoy every moment of life. life is beautiful in all ages.
Anonymous's picture
sach me....nice creation :)

Add new comment

October 2022
SunMonTueWedThuFriSat
2526272829301
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
303112345

In | Subscribe | Home | About us | Mission | Poet | Share

Words | Archive | Comments | Rating